Shani Beej Mantra Graha Lyrics PDF in Hindi

शनि बीज मंत्र | Lyrics | Shani Mantra | Meaning in Hindi | PDF

STOTRA

शनि ग्रह (Shani Graha) in Hindi

शनि ग्रह क्या है

कहा जाता है कि भगवान शनि देव(Shani Mantra) जी को न्याय और कर्मों का देवता माना जाता है. ज्योतिष के अनुसार, शनि महाराज जी एक ही राशि में करीब 30 दिन तक रहते हैं जो मकर और कुंभ राशि के स्वामी माने जाते हैं और भगवान शिव ने शनि देव को नवग्रहों में न्यायधीश का काम सौंपा है.

कैसे स्वाभाव के हैं शनि

यह भी माना गया है कि नव ग्रहों के समूह में इन्हें सबसे क्रूर माना गया है. लेकिन ऐसा नहीं है। भगवान सूर्य देव और उनकी पत्‍नी छाया की संतान शनि देव जी अगर किसी पर मेहरबान हो जाएँ तो वे उसे धन-धान्य से परिपूर्ण कर देते हैं .सिर्फ मानव ही नहीं देवता, असुर, सिद्ध, विद्याधर, गंधर्व व नाग भी उनसे भयभीत होंगे.

Also Read:-

शनिवार को भूलकर भी न करें ये काम

शनि बीज मंत्र (Shani Beej Mantra)

शनि बीज मंत्र जाप की विधि

ज्योतिशास्त्र के अनुसार शनि बीज मंत्र का जाप (shani beej mantra jaap) आपने  किसी शनिवार के दिन से शुरू करना चाहिए तथा यह भी ध्यान रहे कि शनि बीज मंत्र का जाप किसी आसन पर बैठ कर ही करना चाहिए और जाप करने के लिए रुद्राक्ष की माला का प्रयोग अवश्य ही करना चाहिए.

जरूर लें संकल्प

यह माना जाता है कि शनि का बीज मन्त्र जाप शुरू करने से पहले गणेश जी की पूजा, गुरु पूजा और कुलदेव की पूजा कर उनसे आशीर्वाद लेकर शनिदेव का जाप (shani ka beej mantra) शुरू करना चाहिए. तथा शनिदेव मंत्र का जाप करने से पहले संकल्प जरूर लें.

जाएँ शनिदेव के मंदिर

शनिवार को जब बीज मंत्र जाप शुरू करना हो तब उससे पहले अपने नज़दीक किसी शनिदेव के मंदिर में सरसों का तेल, उड़द, लाल शक्कर या गुड़, काले तिल और काले या नीले वस्त्र में बांध कर वहाँ पर चढ़ा दें. यदि संभव हो तो यह प्रतिक्रिया लगातार पांच शनिवार तक अवश्य करें। 

कितनी बार करें माला

ज्योतिषों के अनुसार रोज़ाना शनि बीज मंत्र का जाप कम से कम एक माला जरूर करना चाहिए. कोशिश करें कि जाप करने का समय और स्थान रोज़ाना एक ही हो. आखिर में सबसे महत्वपूर्ण बात कि मंत्र का जाप जितनी श्रद्धा और विश्वास के साथ किया जायेगा, उतना ही लाभ अधिक प्राप्त होगा.

Also Read:-

करें शनि स्तोत्र(Shani Stotra in Sanskrit) का पाठ मिलेगी शनि के कोप से मुक्‍ति

शनि बीज मंत्र के लाभ

  1. शनि देव को न्याय प्रिय गृह कहा जाता है. यदि इनकी कृपा किसी पर हो जाए तो व्यक्ति को रंक से राजा बनाने में देर नहीं लगती.
  2. किसी व्यक्ति की कुंडली में शनि कितने भी मारक होकर क्यों ना बैठे हों यदि व्यक्ति सच्ची श्रद्धा से उनके बीज मंत्र की साधना करनी शुरू कर देता है तो उनके मारकत्व को कारकत्व में बदलने में देर नहीं लगती है.
  3. यह जरुरी नहीं है कि जिनकी कुंडली में शनि मारक होकर बैठा हो, वही लोग शनि के बीज मंत्र का जाप कर सकते हैं. शनि देव के मंत्र की साधना कोई भी व्यक्ति कर सकता है और उसको शनि बीज मंत्र से लाभ ही होगा.
  4.  शनि देव के बीज मंत्र की साधना से व्यक्ति के सभी कार्य सिद्ध होने शुरू हो जाते हैं.
  5. शनि देव को अध्यात्म और गूढ़-ज्ञान का गृह भी माना जाता है.
  6. यदि कोई व्यक्ति इनके मंत्र का जाप करना शुरू करता है तो उस व्यक्ति को अध्यात्म और अंदरूनी ज्ञान खुद प्राप्त होना शुरू हो जाता है. वह व्यक्ति ज़िंदगी के कई गूढ़ रहस्य जान जाता है.
  7.  यदि किसी व्यक्ति को कोई शारीरिक कष्ट है और उसका उपचार चिकित्सा से नहीं हो पा रहा है तो आप शनि मंत्र का जाप करके उस कष्ट से मुक्त हो सकते हो.

Also Read:-

Rahu Beej Mantra | भयानक दृष्टि से बचें | Benefits| जाप विधि

Shani Beej Mantra Lyrics

शनि का बीज मंत्र इस प्रकार है –

शनि बीज मंत्र –  ॐ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः

शनि एकाक्षरी मंत्र – ॐ शं शनैश्चराय नमः

शनिदेव मंत्र–          ॐ नीलांजन समाभासम्। रविपुत्रम यमाग्रजम्।

छाया मार्तण्डसंभूतम। तम् नमामि शनैश्चरम्।।

Also Read:-

Shri Shani dev Chalisa in Hindi (शनि देव चालीसा)- Benefits & Lyrics

शनिदेव मंत्र (Mantra For Shani Dev in Hindi)

कैसे करें शनि मंत्र  का जाप

ज्योतिषों के अनुसार शनि मन्त्र (Shani Mantra Hindi Mein ) का जाप करने से पहले शुद्ध जल से स्नान कर लें, और फिर साफ़-सुथरे कपड़े पहनकर शनिदेव के मंदिर में जाकर उनकी पूजा-अर्चना अवश्य करें. फिर उनको उड़द की दाल का खिचड़ी का भोग लगाएं. तत्पश्चात शुद्ध आसन पर बैठकर इनके उक्त मंत्र का विधि-विधान से जाप करें.

शनि मंत्र के उपाय

ऐसा भी कहा जाता है कि शनिवार के एक दिन पहले यानि शुक्रवार की रात में एक साफ बर्तन में पानी लेकर उसमें काले तिल, उड़द की दाल, काले लौंग और नीले रंग के फूल डालकर उसे रात भर रख दें और सुबह उठने के बाद इसी पानी से स्नान करें और मंत्र जाप (Shani Dev Mantra ) अवश्य करें. इससे आपके सारे दुःख दर्द व अनिष्ट समाप्त हो जाएंगे.

शनि मंत्र का अर्थ (Shani Mantra Meaning)

जो नीले और काले पर्वत की तरह चमकिला है, सूर्य के पुत्र और यम के बड़े भाई

छाया उनकी माँ और मार्तण्ड (सूर्य) उनके पुत्र, शनिदेव को मैं नमन करता हूँ .

Shani  Beej Mantra in English

Om praam preem praum sah shanayishraya namah |

Shanti Mantra  PDF

इस शनि मन्त्र को आप PDF की लिंक को डाउनलोड कर आप इसके वारे बहुत कुछ जान सकते हैं तथा इससे आपको पूरी तरह लाभ प्राप्त होगा.