हिंदी के हिसाब से Olive Oil का पूरा अर्थ जानें वो भी गहराई से

हिंदी के हिसाब से Olive Oil का पूरा अर्थ जानें | वो भी गहराई से

Full Form in Hindi

आइए जानते हैं ऑलिव ऑयल को हिंदी में क्या कहते हैं और इसका अर्थ क्या होता है। हॉलीवुड का हिंदी नाम जानने के लिए बने रहे हमारे साथ।

Also Read-Nutritional Facts, Information & Health Benefits of Mustard Seeds

दरअसल ओलिवआयल या जैतून का तेल (Olive Oil in Hindi), ओले यूरोपेया (जैतून का पेड़) के फल से प्राप्त एक वसा है जो भूमध्यसागरीय क्षेत्र की पारंपरिक फसल का पेड़ बताया गया है। इस विशिष्ट तेल का उत्पादन करने के लिए जैतून को बढ़िया तरीके से दबाया जाता है।

Also Read-Badam And Badam Oil Ke Fayde(बादाम के फायदे )

जैतून, जिसे अंग्रेजी में ओलिव के नाम से पुकारा जाता है, यह एक अंडे के आकार का फल होता है। जैतून भूमध्य क्षेत्र, उष्णकटिबंधीय और मध्य एशिया, दक्षिण अमेरिका के गर्म क्षेत्रों तथा अफ्रीका के विभिन्न हिस्सों में अधिक उगाया जाता है। जैतून के दो मुख्य प्रकार होते हैं – 

  • काले जैतून 
  • हरे जैतून

बता दें कि जैतून का तेल सबसे लोकप्रिय भोजन पकाने के तेल में से एक माना गया है, खासतौर पर हेल्थ फ्रिक लोग इस तेल का प्रयोग करना पसंद करते हैं. ऑलिव ऑयल सूजन घटाने, हार्ट को हेल्दी रखने, ब्लड शुगर कंट्रोल करने, वजन घटाने एवं दिमाग के लिए बहुत ही लाभकारी माना जाता है.

आमतौर पर जैतून के तेल का इस्तेमाल ही सबसे अधिक प्रचलित है। जैतून का तेल खाया भी जाता है एवं बालों तथा शरीर में भी लगाया भी जाता है,कहने का तात्पर्य यह है कि जैतून के तेल के लाभ अनगिनत हैं। जैतून का तेल बालों के लिए, शरीर की हड्डियों के लिए, नाखूनों के लिए बहुत ही लाभकारी है। इससे बाल झड़ना बहुत ही कम होता है, नाखून एकदम से चमकदार हो जाते हैं एवं हड्डियां तन्दुरुस्त हो जाती हैं, मतलब जैतून का तेल बालों के लिए बहुत लाभकारी हैं। इसलिए नवजात शिशुओं को जैतून तेल से मालिश करने के लिए इस तेल का बहुत अधिक इस्तेमाल किया जाता है।फिगारो तेल (Figaro Oil in Hindi) के नाम से शिशुओं के लिए जैतून (jaitun oil) का तेल बहुत अधिक बिकता है।

Also Read- ONGC Company Full-Form | Full Form Of ONGC In Hindi

जैतून से नुकसान 

जैतून के प्रयोग से ये नुकसान भी हो सकते हैं। आपको जैतून का इस्तेमाल करते समय निम्न बातों को ध्यान में रखना चाहिएः-

Also Read-भूल के भी प्रयोग न करें ये चीज़ें | होती हैं जानलेवा

  • जैतून के फल के मुरब्बा को अगर गर्म पानी के साथ खाया जाए तो यह हल्का दस्तावर हो जाता है।
  • जैतून का अचार बनाकर खाने से यह कब्ज को जन्म देता है।
  • जैतून का सेवन बहुत अधिक मात्रा में करने पर सिर में दर्द भी हो सकता है।
  • इससे अनिद्रा की बीमारी भी लग सकती है। 
  • इसका पका हुआ फल आंखों के लिए बहुत ही कष्टदायक होता है।

Also Read-Jaitun Ka Tel Benefits In Hindi (जैतून के तेल के फायदे)

बता दें कि जैतून मूलतः भूमध्य सागरीय क्षेत्रों, एशिया एवं सीरिया में पाया जाता है। दरअसल भारत में यह उत्तर-पश्चिमी हिमालय, जम्मू-कश्मीर, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक एवं तमिलनाडू में भी पाया जाता है।

हम यह आशा करते है कि हमारे द्वारा दी गई सभी जानकरी आपको अवश्य पसंद आई होगी अधिक जानकारी के लिए हमारी इस वेबसाईट से जुड़े रहें.