mrigshira nakshatra love health career success family life

Mrigshirsha Nakshatra in Hindi | विशेषतायें | स्वामी | राशि | लव

Nakshatra
Table of Contents Hide Table

Mrigshirsha Nakshatra Meaning in Hindi

वैदिक ज्योतिष में 27 नक्षत्रों में से मृगशिरा नक्षत्र पांचवें नंबर पर आता है. आज हम मृगशिरा नक्षत्र में पैदा हुए  लोगों के जीवन के विषय में बात करेंगे.

कहाँ से उत्पन्न हुआ मृगशिरा नक्षत्र

यदि वैदिक ज्‍योतिष की मानें तो मृगशिरा नक्षत्र की उत्‍पत्ति के बारे में बताया जाता है कि एक बार की बात है ब्रह्मा जी का मोह उनकी अपनी ही पुत्री पर जाग उठा. जब भगवान् भोलेनाथ को इसका पता लगा तो उन्हें अत्‍यंत क्रोध आया। तथा उन्‍होंने ब्रह्म्‍देव पर बाण चला दिया. महाकाल शिव के इस गुस्से वाले रूप से ब्रह्मा जी काफी भयभीत हो गए और आकाश की ओर भागने लगे. जब ब्रम्हा जी को कोई रास्‍ता दिखाई नहीं दिया तो वे आकाश में मृगशिरा नक्षत्र के रूप में स्‍थापित हो गये. अब क्योंकि वे महाकाल शिव के क्रोध से बचना चाहते थे तो उस समय उन्‍होंने हिरन यानी कि मृग का रूप धारण कर लिया. और जब वो नक्षत्र बने तो उनका नाम मृगशिरा नक्षत्र पड़ गया. इसी प्रचलित कथा के अनुसार शिवजी के बाण ने उन्‍हें आज तक माफ नहीं किया है और आज भी वह बाण आर्द्रा नक्षत्र के रूप में मृगशिरा रूपी ब्रह्माजी के पीछे पड़ा हुआ है.

Also Read:-

27 Nakshatra by Names List | Characteristics | Hindi Meaning | Calculator

मृगशिरा नक्षत्र विशेषताएँ:

इस नक्षत्र में पैदा होने वालों के बारे में कहा जाता है कि इन लोगों के दिल में असीम प्रेम भरा होता है तथा इनकी आत्मा सबसे शुद्ध आत्माओं में से एक मानी जाती है. इसलिए, ये बहुत नाजुक और संवेदनशील होते हैं. हालाँकि, उनके दिमाग में बहुत उतार-चढ़ाव आता है, लेकिन वे बुद्धिमान हैं और ईमानदारी और आज्ञाकारिता के साथ अपने कार्यों को सफल बनाने में कुशल होते हैं.

मृगशिरा नक्षत्र के विषय में भी अन्य नक्षत्रों की तरह कई कथाएँ हैं. जैसे कि एक प्रचलित कथा के अनुसार सीता माता को स्वर्ण मृग चाहिए था. भगवान राम स्वर्ण मृग लाने के लिए चले गए. वही स्वर्ण मृग भगवान राम के लिए सभी समस्याओं का मूल कारण था. इसी तरह जो लोग मृगशिरा नक्षत्र में जन्मे हैं वे जीवन में एक सुनहरे हिरण के पीछे दौड़ते रहते हैं. मेरा मतलब है कि की सुनहरे हिरण का अर्थ है इच्छा. मतलब इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोगों की बहुत सारी इक्षायें होती हैं.

Also Read:-

Bharani Nakshatra in Hindi | विशेषतायें | स्वामी | राशि | लव

Mrigshirsha Nakshatra in Hindi-

मृगशिरा नक्षत्र के नाम और चिन्ह दोनों ही ये दिखाते हैं कि मृगशिरा में प्राकृतिक रूप से सौंदर्य के साथ साथ स्वतंत्रता एवं नए रास्ते तलाशने के लिए हिरण के जैसे अनेकों गुण विद्यमान रहते हैं .

यदि वैदिक ज्योतिष की मानें तो मंगल ग्रह मृगशिरा नक्षत्र को शासित करता है. यह हिरण के सिर के सामान प्रतीत होता है जो दृढ़ता एवं साहस के साथ साथ ताकत को प्रदर्शित करता है. सोम एवं चंद्रमा भगवान मृगशिरा नक्षत्र के हिंदू देवता हैं.

MARS IS THE LORD OF MRIGSHIRSHA NAKSHATRA

ज्योतिष में मृगशिरा नक्षत्र

वैदिक ज्योतिष के अनुसार, मंगल ग्रह मृगशिरा नक्षत्र का शासक ग्रह है जिसका प्रतीक हिरण के सिर जैसा है. जैसा कि हिरण हमेशा संवेदनशील, चिंतित, और आसपास के बारे में संदिग्ध होते हैं, इसलिए वे मृगशिरा नक्षत्र के मूल निवासी माने जाते हैं. यह आध्यात्मिक योद्धा की दृढ़ता, शक्ति और साहस को दर्शाता है.

Also Read:-

Punarvasu Nakshatra in Hindi | विशेषतायें | स्वामी | राशि | लव

मृगशिरा नक्षत्र में जन्मे पुरुषों की विशेषताएं-

इस नक्षत्र में जन्मे पुरुषों की प्रवृत्ति होती है की वे अधिकतर लोगों को संदेह की दृष्टि से देखते हैं हालाँकि, वे Mrigshirsha nakshatra Male Characteristics दूसरों के साथ अपनी बातचीत में स्वयं बहुत ईमानदार रहते हैं और यह उम्मीद करते हैं कि दूसरे भी ऐसे ही इमानदार बने रहें. लेकिन उनको संदेह रहता है की क्या सामने वाला ईमानदार है.  दुर्भाग्य की बात है की उसे दोस्तों और रिश्तेदारों द्वारा कोई धोखा भी दिया जा सकता है इसलिए उसे उनसे थोडा सावधान रहना चाहिए। यदि उस ने लोगों पे आँखें बंद करके भरोसा किया तो बाद में उनका दिल तोडा जा सालता है.

हालाँकि, जब उसे पता चलता है कि उसे किसी ने धोखा दिया है, तो वह इन लोगों के साथ बहुत ही सावधानी से व्यवहार करता है. ये लोग जीवन में उच्च मूल्यों का पालन करते हैं। ये लोग पक्षपाती एवं  बेईमान व्यक्तियों के प्रति बहुत असहिष्णु होते हैं और अपने जीवन में उन्हें कभी स्वीकार नहीं करते. इसके अलावा, उसके पास एक दोहरा व्यक्तित्व हो सकता है, जैसे कि वह बाहर की दुनिया को जो दीखते हैं , ज़ुरूरी नहीं है के वो अंदर से भी वैसे ही होंगे.

मृगशिरा नक्षत्र में जन्म लेने वाले जातक सुशिक्षित बनते हैं. पैसे के विषय में उनकी सलाह आम तौर पर बहुत अच्छी होती है, लेकिन समस्या यह है कि वह इसे अपने जीवन में पैसे को ले कर बहुत अच्छे सिद्धांत लागू नहीं करते हैं. यही वजह है कि उनके पास पैसे आते तो हैं लेकिन हमेशा पैसों की कमी बही रहती है. यदि वह एक व्यवसायी है, तो उसे 32 वर्ष की आयु के बाद सफलता प्राप्त होने की संभावना है, और 33 से 50 वर्ष की आयु के बीच, वह ऊर्जा से भरा होगा और इस चरण के दौरान अपनी कमाई से पूरी तरह संतुष्ट होगा.

Also Read:-

Ashwini Nakshatra in Hindi | विशेषतायें | स्वामी | राशि | लव

मृगशिरा नक्षत्र पुरुष: इनका साथ एवं पारिवारिक जीवन(Mrigshirsha Nakshatra Family Life)

मृगशिरा नक्षत्र के जातक का अपने भाई-बहनों से अच्छे और मधुर संबंध नहीं हो सकते. संपत्ति से जुड़े मुद्दों के कारण उनके साथ विवाद भी हो सकता है। इसके साथ ही यदि वो अपने रिश्तेदारों से सच्चा प्यार और स्नेह भी करे तो उसके रिश्तेदारों पर उसका कोई असर नहीं पड़ेगा. संभावना ये ही है कि उसके जीवनसाथी की सेहत अच्छी न हो. इसके अलावा, उनका दांपत्य जीवन भी सौहार्दपूर्ण नहीं होता है, इसका मुख्य कारण उसी के मूर्खतापूर्ण मामलों पर मतभेद और अडिग प्रकृति रखना है. दंपत्ति के बीच वैमनस्य का मुख्य कारण पत्नी का बेहतर पेशा और जिसके परिणामस्वरूप हीन भावना का उत्पन्न होना भी हो सकता है .

मृगशिरा नक्षत्र वाले पुरुषों का स्वास्थ्य- (Mrigshirsha Nakshatra Male Health)

उन्हें बचपन में अस्वस्थता का सामना करना पड़ता है. बार-बार कब्ज होने से अंततः पेट की गड़बड़ी, कटने और चोट लगने  तथा कॉलरबोन अर्थात के पास कंधों में दर्द हो सकता है.

मृगशिरा नक्षत्र महिला लक्षण- Mrigshirsha nakshatra female characteristics

मृगशिरा नक्षत्र की स्त्री जातक बुद्धिमान और दान कार्य में रुचि रखने वाली होती हैं . ये जातक हमेशा सतर्क और मजाकिया होती हैं लेकिन साथ ही स्वार्थी भी होती हैं. इसके अलावा, वे तेज जीभ वाली महिलाएं होती हैं जो जो दूसरों को कोसने में काफी निपुण होती हैं. उन्हें अपने स्वभाव पर नियंत्रण रखने की कोशिश करनी चाहिए. अन्यथावे खुद को नुकसान पहुंचा सकती हैं. वे साक्षर होती हैं और कला के प्रति झुकाव रखती हैं. हालाँकि, उनके बच्चे उनको काफी प्यार करते हैं और मृगशिरा  नक्षत्र में जन्मी स्त्रियाँ समर्पित पत्नी होती हैं. इसके अलावा, वे विभिन्न स्रोतों से बहुत सारा धन भी अर्जित करती हैं. वे भौतिक सुख-सुविधाओं की बहुत शौकीन होती हैं. इसी के साथ विभिन्न व्यंजनों, बहुत सारे आभूषणों और ब्रांडेड कपड़ों का आनंद लेती है. उन्हें जीवन की अच्छी चीजों के लिए लालची कहा जा सकता है.

मृगशिरा नक्षत्र महिला: अनुकूलता और पारिवारिक जीवन:

मृगशिरा नक्षत्र की स्त्री जातक विवाह के बाद भी विभिन्न घरेलू कार्यों में हमेशा व्यस्त रहती हैं. वह अपने पति पर हावी होना पसंद करती हैं. जीवन के शुरुआती वर्षों में उनके अच्छे कुछ प्रेम संबंध हो सकते हैं। हालाँकि, वे शादी के बाद, बदल जाती है और अपने पति के प्रति समर्पित होने लगती हैं.

मृगशिरा नक्षत्र महिला: नौकरी एवं अन्य संबंधित क्षेत्र

मृगशिरा नक्षत्र में जन्मी स्त्री आमतौर पर अनपढ़ व्यक्तित्व की मानी जाती हैं क्योंकि उनकी पढ़ाई में कोई रुचि नहीं होती है. पढ़ाई में रुचि कम होने के कारण ये जातक बार-बार कक्षा दोहराते नजर आते हैं. और अंत में, वे शिक्षा से बाहर हो जाते हैं. यह तभी संभव है जब गुरु माघ नक्षत्रों में अनुकूल रूप से स्थित हो, यह जातक अपने क्षेत्र के शीर्ष पर पहुंचने के लिए शिक्षा में तेजी से प्रगति करने की कई बार कोशिश करती हैं .

मृगशिरा नक्षत्र वाली महिलाओं का स्वास्थ्य-   (Mrigshirsha Nakshatra Ladies Health)

मृगशिरा नक्षत्र की महिला जातक खराब स्वास्थ्य से पीड़ित रहती हैं, जिसके कारण वे एसटीडी, मासिक धर्म की समस्या और शरीर में दर्द जैसे गंभीर रोगों से पीड़ित हो सकती है.

मृगशिरा नक्षत्र शक्तियां-

(Mrigshirsha Nakshatra)

मृगशिरा नक्षत्र में नज्मे व्यक्तियों में अपने व्यक्तित्व को लेकर अत्यधिक चिंता की भावना रहती है. इस नक्षत्र के जातक सदैव उत्सुक रहते हैं. उनके अन्दर एक नेता सदैव विधमान रहता है. ये लोग बुद्धिमान तो होते ही हैं साथ ही  कार्य के प्रति उन्मुख भी रहते हैं. आप लोग रचनात्मकता को पसंद करते हैं  तथा अच्छी बोलचाल के साथ साथलेखन और गायन का भी गुण रखते हैं . आपको तर्कपूर्ण बहस करने में आनंद आता है। हिरन के व्यक्तित्व के अनुरूप ही आप आशावादी, चालाकतथा उत्साही व्यक्ति बने रहते हैं .

मृगशिरा नक्षत्र कमजोरियां

आलोचना करना मृगशिरा नक्षत्र में जन्मे लोगों की प्रमुख समस्या है. इनकी दूसरी सबसे बड़ी समस्या है असंतुलित दृष्टिकोण तथा सदैव दूसरों पे संदेह करना. विचारों का अस्त व्यस्त होना भी इनकी एक बड़ी समस्या होती है. एक अरु बड़ी समस्या है की ये लोग ज़ुरूरत के हिसाब से प्रतिबद्धता नहीं दिखाते निरंतर उनके ऊपर ध्यान देने की ज़ुरूरत होती है.  वे आवेगपूर्ण होते हैं तथा इसी लिए वे भरोसे के लायक नहीं होते. आसानी से किसी भी कार्य से ऊब जाना इनका एक अन्य अवगुण होता है.  

मृगशिरा नक्षत्र नाम

Mrigshirsha Nakshatra में जन्मे शिशुओं के लिए, निम्न अक्षरों से शुरू होने वाले नाम (names for Mrigshirsha nakshatra) सर्वश्रेष्ठ होते हैं-

वी, वो, का, की

Mrigshirsha नक्षत्र के कुछ रोचक तथ्य

अनुवाद: हिरण का सिर

प्रतीक: हिरण का शीश

स्वामी (Lord): मंगल

राशि: वृष और मिथुन

देवता : मंगल

प्रकृति: नरम और कोमल अर्थात मृदु

गण: देवता गण

शरीर वराहमिहिर: आँखें

शरीर पराशर: नाक

संख्या- 5

नाम पत्र: वे, वो, का, की

भाग्यशाली अक्षर: V & K

भाग्यशाली रत्न : मूंगा

भाग्यशाली रंग: सिल्वर, ग्रे

भाग्यशाली अंक: 9

तत्व: पृथ्वी

दोष: पित्त

पक्षी का नाम: मुर्गी

योनी- मादा सर्प (सर्पा)

वृक्ष- खदिरा

मृगशिरा नक्षत्र का भाग्यशाली रत्न कौन से हैं?

नीलमणि और मूंगा

मृगशिरा नक्षत्र की भाग्यशाली संख्याएं कौन सी हैं?

भाग्यशाली संख्या है – 9

मृगशिरा  नक्षत्र के भाग्यशाली रंग कौन से हैं?

चमकीला भूरा रंग या सिल्वर, ग्रे

मृगशिरा नक्षत्र के भाग्यशाली दिन कौन से हैं?

मंगलवार तथा ब्रहस्पतिवार

मृगशिरा नक्षत्र में जन्मे लोगों की राशि कौन सी होती है?

मृगशिरा नक्षत्र में जन्मे लोगों की वृषभ या मिथुन कोई सी भी राशि हो सकती है

Mrigshirsha Nakshatra Rashi

Taurus or Gemini

Mrigshirsha Nakshatra Famous Personalities-

जैसा कि उपरोक्त लक्षण बताते हैं, इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोग बहुत लोकप्रिय और प्रसिद्ध होते हैं हैं. मृगशिरा नक्षत्र में जन्मे कुछ प्रसिद्ध लोगों के नाम हैं-

  • बी वी आर रमन
  • डॉ राजेंद्र प्रसाद
  • सलमान रुश्दी
  • भारतीय अभिनेता अशोक कुमार
  • ब्रोके शील्ड
  • B V R Raman
  • Dr Rajendra Prasad
  • Salman Rushidie
  • Actor Ashok Kumar
  • Brroke Shields