punarvasu naksjatra love health career success family life hellozindgi.com

Punarvasu Nakshatra in Hindi | विशेषतायें | स्वामी | राशि | लव

Nakshatra
Table of Contents Hide Table

Punarvasu Nakshatra Meaning in Hindi,

वैदिक ज्योतिष में 27 नक्षत्रों में से पुनर्वसु  नक्षत्र सातवें नंबर पर आता है यहाँ हम मुख्य पौराणिक कथाओं के आधार पर पुनर्वसु  नक्षत्र में पैदा हुए  लोगों के जीवन के विषय में बात करेंगे.

पुनर्वसु का शाब्दिक अर्थ है पुन: बसना अर्थात पुनः धन, मान सम्मान की प्राप्ति हो जाना. यदि ज्योतिषशास्त्र की मानें तो पुनर्वसु नक्षत्र में जन्म लेने वाले जातकों की वाणी कोमल व मधुर होती है. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इस नक्षत्र पर गुरू का प्रभाव होता है.  इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले व्यक्ति का शरीर भारी-भरकम होता है और इनकी याददाश्त काफी  अच्छी होती.

Also Read:-

Krittika Nakshatra in Hindi | विशेषतायें | स्वामी | राशि | लव

पुनर्वसु नक्षत्र तूफान  एवं अशांति के बाद सद्भावना लौटाने का प्रतीक है. यह नक्षत्र अपने मूल में जन्मे लोगों को पोषण और गुणवत्ता प्रदान करता है. यह नवीनीकरण की भावना और एक नए विचार की शुरुआत की ओर इशारा करता है।

पुनर्वसु नक्षत्र क्या है?

पुनर्वसु नक्षत्र का नाम दो शब्दों ‘पुनर’ और ‘वसु’ से मिलकर बना है. पुनर का अर्थ है पुनरावृत्ति, वापसी, बहाली, पुनःपूर्ति, कायाकल्प, या नवीनीकरण, जबकि वसु ‘वसुत्य का अर्थ है फिर से अच्छा. अतः हम कह सकते हैं की ये कायाकल्प का नक्षत्र है. इसलिए यह अनुमान लगाया जा सकता है कि पुनर्वसु नक्षत्र मूल के लोगों में उद्देश्यों को प्राप्त करने की एक महान क्षमता होती है. नतीजतन, वे धन, पदार्थ एवं सांसारिक सूचक प्राप्त कर करते हैं.

Also Read:-

Bharani Nakshatra in Hindi | विशेषतायें | स्वामी | राशि | लव

पुनर्वसु नक्षत्र के विभिन्न अर्थ

वसु का अर्थ प्रकाश की किरण भी होता है. तो पुनर्वसु का अर्थ है प्रकाश की किरण की वापसी। अब इसे ‘प्रकाश की किरण की वापसी’ क्यों कहा जाता है. ऐसा इसलिए है क्योंकि पुनर्वसु नक्षत्र आर्द्रा नक्षत्र में सफल होता है. आर्द्रा नक्षत्र गरज और तूफान के कारण तबाही मचाता है. पुनर्वसु नक्षत्र है, जो फिर से जीवन लाता है.

Also Read:-

Ashwini Nakshatra in Hindi | विशेषतायें | स्वामी | राशि | लव

पुनर्वसु नक्षत्र की देवी हैं अदिति –

पुनर्वसु नक्षत्र नवीकरण का तारा है, और इससे जुड़ी देवी अदिति हैं. अदिति पृथ्वी की माता हैं और उन्हें प्रचुरता या सम्पन्नता की माता के रूप में भी जाना जाता है. वे बारह आदित्य या वर्ष के बारह सौर महीनों की मां भी हैं.

godly care helping hand to kids hellozindgi.com

विश्व के रक्षक, पुनर्वसु नक्षत्र के जातक दुनिया में देखभाल और सद्भाव की मिसाल कायम करते हैं. इन भाग्यशाली लोगों में आपको नकारात्मकता का एक टुकड़ा भी नहीं मिलेगा क्योंकि ये आशावादी, खुश रहने वाले लोग होते हैं. उनकी शासक देवी, अदिति द्वारा उन्हें आशीर्वाद प्राप्त है कि जब वे प्रतिकूलताओं या नकारात्मकता का सामना करते हैं, तो वे आत्मविश्वास और आशावाद की भावना के साथ उनका सामना करते हैं. उनका मंत्र आत्म-जागरूकता और परोपकार है जो उनके पास दूसरों के लिए है सदैव सुरक्षित रहता है.

Punarvasu Nakshatra in Hindi

राशि चक्र पर सातवें नक्षत्र, पुनर्वसु पर बृहस्पति का शासन है. ज्ञान अर्जन करना तथा उसका उपयोग कैसे किया जाता है, इस सबका ध्यान गुरु स्वयं ही रखते हैं. पुनर्वसु नक्षत्र अपने जातकों को स्वतंत्रता का प्रेमी भी बनाता है लेकिन समस्या ये है की स्वतंत्रता की प्राप्ति तभी की जा सकती है जबकि किसी सीमा से बंधे हुए ना हो. इसलिए Punarvasu Nakshatra के जातक किसी भी प्रकार का बंधन स्वीकार नहीं करते.

बृहस्पति के सच्चे लग्न होने के कारण, उनके पास जो कुछ है उससे वे हमेशा संतुष्ट रहते हैं क्योंकि वे जानते हैं कि उनके पास जो है वह काफी है. आइये अब हमे हमें यह समझना चाहिए कि पुनर्वसु होना कैसा होता है.

Also Read:-

27 Nakshatra by Names List | Characteristics | Hindi Meaning | Calculator

पुनर्वसु नक्षत्र का ज्योतिषीय महत्व

अयोध्या के राजा और हिंदू भगवान प्रभु श्री राम का जन्म भी पुनर्वसु नक्षत्र में हुआ था. नक्षत्र 20 डिग्री मिथुन से 3 डिग्री कर्क के भीतर 20 ranges तक होता है. पुनर्वसु नक्षत्र के लिए शासक ग्रह बृहस्पति है. तथा अदिति जो की इस नक्षत्र की देवी हैं सत्य, सौंदर्य, अभिजात वर्ग, कुलीनता और पवित्रता का प्रतिनिधित्व करती हैं. ये नेक गुण उनके मूल निवासियों को भी विरासत में मिलते हैं.

पुनर्वसु नक्षत्र में जन्मे पुरुषों की विशेषताएं- Punarvasu nakshatra Male characteristics )

 इस नक्षत्र के जातक धार्मिक रूप से ईश्वरभक्त होने की सीमा तक प्रवृत्त होते हैं. जीवन के शुरुआती वर्षों में उनका अच्छा व्यवहार होता है, लेकिन बाद अर्थात लगभग 20 वर्ष के बाद उनमें एक गर्म स्वभाव और अहंकार विकसित हो जाता है. येही कारण है की उनका किरदार समझने में थोड़ा कठिन होता है. पुनर्वसु नक्षत्र में जन्मे पुरुष बहुत कम भौतिक सुख-सुविधाओं से संतुष्ट हो जाते हैं, लेकिन साथ ही साथ अर्थात एक ही समय में, वे उस चीज के लिए भी तरस सकते हैं है जो उनकी पहुंच से बाहर हो . उनके साथ दोस्ती करना एक मुश्किल कार्य है. उनके बारे में एक बात स्पष्ट है कि वे न तो किसी को अपने जीवन में शामिल करेंगे और न ही अवैध गतिविधियों में लिप्त होने में किसी का साथ देंगे. Punarvasu nakshatra male  ऐसे भी होते हैं कि जब वो अच्छे मूड में हों या उदार महसूस कर रहे हों तो जरूरतमंदों की मदद के लिए वे किसी भी हद तक जा सकते हैं.

पुनर्वसु नक्षत्र वाले पुरुषों की शिक्षा एवं करियर का चुनाव

पुनर्वसु नक्षत्र में जन्मे लोगों को ऐसे व्यवसाय नहीं करने चाहिए जिनमें साझेदारी की ज़ुरूरत पड़े.  साझेदारी वाले व्यवसायों को छोड़कर लगभग सभी क्षेत्रों में वे उत्कृष्ट और सफल हो प्रदर्शन करते हैं। वह एक शिक्षक के रूप में या एक मंच अभिनेता के रूप में बहुत लोकप्रियता अर्जित कर सकते हैं. जब तक वह 32 साल के नहीं हो जाते, तब तक सितारे उनका ज्यादा साथ नहीं देंगे. इसलिए उन्हें 32 साल की उम्र तक कोई भी बड़ा फैसला लेने से बचना चाहिए। भले ही उनकी कमाई ज्यादा न हो, लेकिन उन्हें सार्वजनिक सम्मान मिल सकता है. उनके धन अर्जित नहीं कर पाने का वास्तविक कारण है कि 32 वर्ष से पहले उनमें व्यावसायिक कौशल की कमी होती है और वे बहुत अधिक ईमानदारी से अपना कार्य करना चाहते हैं। हालांकि वे ज्यादातर निर्दोष होते हैं और इसीलिए वे बार बार निराश दिखाई देते हैं .

पुनर्वसु नक्षत्र पुरुष: इनका साथ एवं पारिवारिक जीवन

पुनर्वसु नक्षत्र का जातक अपने माता-पिता का बहुत ही आज्ञाकारी होता है। वह अपने पिता, माता और शिक्षक का बहुत सम्मान करता है. हालाँकि, उनका Punarvasu Nakshatra Family Life  वैवाहिक जीवन संतोषजनक नहीं रह पाता है. कुछ विषम परिस्थितियों में वह अपनी पत्नी से तलाक ले सकता है या दूसरी शादी के विषय में भी कदम बढ़ा सकता है. यदि वह दूसरी शादी नहीं भी करता, तो भी उसके जीवनसाथी का स्वास्थ्य उसके लिए कई समस्याओं और हताशा का कारण बना रहेगा. फिर भी, उसकी जीवनसाथी एक अच्छी गृहिणी होती है. परिवार के सदस्यों के बीच अक्सर बहस भी रहती है . ये सभी समस्याएं मिलकर जातक को मानसिक परेशानियों की ओर ले कर जाती हैं.

पुनर्वसु नक्षत्र वाले पुरुषों का स्वास्थ्य-

पुनर्वसु नक्षत्र के जातक को किसी भी गंभीर स्वास्थ्य समस्या का सामना नहीं करना पड़ता है. हालाँकि, छोटी-छोटी बीमारियाँ उसे बहुत परेशान करेंगी. उसके लिए उसकी आदतें उसका सुरक्षा कवच होती हैं. वह बहुत सारा पानी पीता है और उसका पाचन तंत्र काफी मजबूत होता है.

पुनर्वसु नक्षत्र महिला लक्षण- Punarvasu nakshatra female characteristics

पुनर्वसु नक्षत्र की महिला जातक शांत स्वभाव की होती है, लेकिन कई बार उसकी वाणी बहुत कटु हो सकती है. इससे ससुराल पक्ष और रिश्तेदारों और यहां तक कि पड़ोसियों को भी कई समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं. लेकिन सच में, वह एक ऐसे व्यक्ति का हमेशा आदर करती है जिसे वाकई में सम्मान देना चाहिए है। जैसे अपने घर के बड़े या फिर कोई योग्य व्यक्ति वगेरा.  वे Punarvasu nakshatra female characteristics आराम से रहना पसंद करती है और इस प्रकार उसके घर में कई नौकर और भौतिक सुख-सुविधा की वस्तुएं होंगी.

पुनर्वसु नक्षत्र महिला: नौकरी एवं अन्य संबंधित क्षेत्र

पुनर्वसु नक्षत्र में जन्मी स्त्री  जातक संगीत की शौकीन होती है और विभिन्न लोक नृत्यों में विशेषज्ञता प्राप्त करती है. मंच पर उनकी इन प्रतिभाओं की प्रस्तुति से उन्हें बहुत वाहवाही और प्रसिद्धि मिलती है और यहाँ तक कि यदि वे अपने शौक को अपना कार्य बना लें तो ये उनकी आजीविका का एक शानदार साधना भी बनता है और वे प्रचुर मात्रा में पैसा भी अर्जित करती हैं.

पुनर्वसु नक्षत्र महिला- परिवार एवं निजी जीवन

पुनर्वसु नक्षत्र में जन्म लेने वाली महिला जातकों का पति सुन्दर एवं आकर्षक व्यक्तित्व वाला होता है. वे अपने पति के साथ एक अच्छा तालमेल साझा करती हैं, और वैवाहिक जीवन में कुछ उतार-चढ़ाव के बावजूद, वह अपने पति के साथ आनंदित रहती हैं. जब पति के साथ ताल मेल अच्छा होता है तो परिवार के अन्य सदस्यों के साथ भी अच्छे ताल मेल की काफी सम्भावना होती है.

पुनर्वसु नक्षत्र वाली महिलाओं का स्वास्थ्य- Punarvasu Nakshatra ladies health

पुनर्वसु नक्षत्र की महिला जातकों को कुछ स्वास्थ्य संबंधी दिक्क़तें एवं चिंताओं लगी रहती हैं, क्योंकि वे अपनी उचित देखभाल करने में विश्वास नहीं रखती हैं. निमोनिया, कान में दर्द, अपच, तपेदिक, घेंघा या पीलिया जैसी कुछ बीमारियों से वे पीड़ित हो सकती हैं.

पुनर्वसु नक्षत्र शक्तियां- Punarvasu Nakshatra

पुनर्वसु नक्षत्र  में जन्मे जातक दोस्ताना स्वभाव रखते हैं और वे दिल के बड़े उदार व्यक्ति होते हैं .  ये विशेषकर देखभाल तथा प्यार करने वालेलोग होते हैं. इनकी धार्मिक प्रवत्ति होती है तथा ये आत्मसंतुष्ट रहते हैं. साधारण जीवन का आनंद लेना इनका सबसे बड़ा आभूषण होता है.

इनकी रूचि दर्शनशास्त्र और आध्यात्मिक लेखन में में होती है. इन लोगों की कल्पना शक्ति काफी गहन होती है. Punarvasu Nakshatra  में जन्मे जातक वर्तमान में जीते हैं और प्रभावशाली तरीके से संवाद करने की क्षमता रखते हैं. ये आध्यात्मिक लोग होते हैं तथा दूसरों के साथ जुड़ने में इनको अधिक समय नहीं लगता और ये प्रेरक वक्ता होने के साथ साथ अच्छे लेखक भे होते हैं.

पुनर्वसु नक्षत्र कमजोरियां

पुनर्वसु नक्षत्र में जन्मे लोगों की मुख्या कमजोरी उनका सहज दृष्टिकोण होती है जिसे सदैव गलत ही माना जाता है. इस नक्षत्र के जातकों की समस्या ये है की वो अपने भविष्य में आने वाली समस्याओं को पूर्ववत देखने और समझने में असमर्थ होते हैं तथा बाद में इन्हें ऐसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है जिनका निपटारा पहले ही हो सकता था. Punarvasu Nakshatra के जातक अनिश्चित होते हैं.

पुनर्वसु नक्षत्र नाम

Punarvasu Nakshatra में जन्मे शिशुओं के लिए, निम्न अक्षरों से शुरू होने वाले नाम (names for Punarvasu nakshatra) सर्वश्रेष्ठ होते हैं-

के, कै, को, हा, हाय और हे

पुनर्वसु नक्षत्र के कुछ रोचक तथ्य

अनुवाद: प्रकाश की वापसी

प्रतीक: तीरों का तरकश

स्वामी (Lord): बृहस्पति (गुरु)

राशि: मिथुन या कर्क

देवता : अदिति – देवताओं की माता

प्रकृति:ल या अल्पकालिक

गण: देव गण (भगवान की तरह)

शरीर वराहमिहिर: उंगलियां

शरीर पराशर: गाल

संख्या- 7

नाम अक्षर : के, को, हा, ही

भाग्यशाली रत्न : पीला नीलम

भाग्यशाली रंग: ग्रे या सीसा रंग अर्थात पारे जैसा

भाग्यशाली अंक: 3

तत्व: जल

दोष: वात

पक्षी का नाम: हंस

योनी- मादा बिल्ली

वृक्ष- वेणु वृक्ष एवं बांस

लिंग – महिला

गुण – सात्विक

पुनर्वसु नक्षत्र का भाग्यशाली रत्न कौन से हैं?

पीला नीलमणि और पुखराज

पुनर्वसु नक्षत्र की भाग्यशाली संख्याएं कौन सी हैं?

3

पुनर्वसु नक्षत्र के भाग्यशाली रंग कौन से हैं?

गोल्डन या सोने जैसा रंग

पुनर्वसु नक्षत्र के भाग्यशाली दिन कौन से हैं?

गुरूवार

पुनर्वसु नक्षत्र में जन्मे लोगों की राशी कौन सी होती है?

मिथुन या कर्क

Punarvasu Nakshatra Rashi-

Gemini or Cancer

Punarvasu Nakshatra Famous Personalities-

उपरोक्त विषयों और विश्लेषण के आधार पर, बहुत से लोग जो पुनर्वसु नक्षत्र में पैदा हुए हैं अपने समय में बहुत प्रसिद्ध हुए हैं. उनमें से कुछ हैं:

  • शकीरा
  • शिंजो आबे
  • फुटबॉल के दिग्गज पेले
  • महर्षि रमन्ना
  • भारतीय कार्टूनिस्ट आर के लक्ष्मण
  • Shakira
  • Shinzo Abe
  • Football legend Pele
  • Meharishi Ramanna
  • Indian Cartoonist R K Laxman