दूरदर्शन पर निबंध In Hindi Doordarshan Short Essay

दूरदर्शन पर निबंध  In Hindi | Doordarshan Short Essay

NIBANDH IN HINDI

मित्रों Doordarshan  पर हिंदी में निबंध प्रस्तुत है. यदि वर्तमान परिवेश में देखा जाये तो Doordarshan Essay in Hindi , निबंध लेखन का एक महत्वपूर्ण विषय है. आप Doordarshan पर हिंदी निबंध पढ़ें एवं अपने ज्ञान का वर्धन करें. हमें उम्मीद है कि Doordarshan निबंध आपको अवश्य पसंद आएगा.

प्रस्तावना –

आपको बता दें कि दूरदर्शन दूर और दर्शन शब्दों से मिलकर बना है। जिसका शाब्दिक अर्थ है – ‘दूर की वस्तु की दृष्टि’। आज के समय में दूरदर्शन हमारे घरों में एक आवश्यक उपकरण बन गया है। दूरदर्शन रेडियो तकनीक का एक उन्नत रूप है। रेडियो में प्रसारित होने वाले कार्यक्रम केवल सुने जा सकते हैं, लेकिन दूरदर्शन यानि टेलीविजन के माध्यम से प्रसारित होने वाले कार्यक्रम भी सुने और देखे जाते हैं। छोटे पर्दे के रूप में दूरदर्शन को आज हमारे घरों में एक छोटे सिनेमा के रूप में दर्शाया गया है। आज के समय में दूरदर्शन के दर्शकों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। आज दूरदर्शन मानव जीवन शैली का एक महत्वपूर्ण अंग बन गया है। दूरदर्शन के आज के समय में विद्यार्थी, शिक्षा के लोग, परिवार के बड़े, खिलाड़ी, समाचार वाले और मनोरंजन जगत के लोग दीवाने हैं।

Also Read:-

NCERT Full Form In Hindi | What Is NCERT Board

दूरदर्शन का विस्तार –

दूरदर्शन का आविष्कार दुनिया में सबसे पहले 1925 ई. में जेएल बेयर्ड ने किया था। उस समय दूरदर्शन दुनिया के लिए किसी चमत्कार से कम नहीं था। दुनिया में दूरदर्शन की खोज के बाद दूरदर्शन के उपकरण लगभग सभी देशों में फैलने लगे। इस दौरान भी दूरदर्शन का भारत में आगमन 1959 के आसपास हुआ था। उस समय, दूरदर्शन केवल भारत के प्रमुख शहरों में उपलब्ध था, लेकिन उसके बाद केवल दूरदर्शन का आनंद गणमान्य व्यक्तियों या सरकारी विभागों के अधिकारियों द्वारा लिया जाता था। लेकिन पिछले 20 सालों में दूरदर्शन भारत के लगभग सभी हिस्सों में पहुंच चुका था। भारत में आज दूरदर्शन हर घर में देखा जा सकता है।

Also Read:-

MLA Full Form Hindi | What is MLA In Politics

विदेशों से गणमान्य व्यक्तियों की यात्राओं को टेलीविजन द्वारा कवर किया जाता है और उनके साथ साक्षात्कार की व्यवस्था की जाती है। चिकित्सा, शल्य चिकित्सा के क्षेत्र में विशेषज्ञों और प्रतिष्ठित पत्रकारों और राजनेताओं का साक्षात्कार दर्शकों को उनके संबंधित क्षेत्रों में नवीनतम घटनाओं और परिवर्तनों से अवगत कराने के लिए किया जाता है।

Also Read:-

कल करे सो आज कर अर्थ | निबंध | कबीर Birth Death Age Religion

मनोरंजन के क्षेत्र में दूरदर्शन –

आज के समय में मनोरंजन के एक प्रमुख साधन के रूप में दूरदर्शन बहुत महत्वपूर्ण है। मनोरंजन का जितना प्रयोग मनोरंजन के क्षेत्र में दूरदर्शन ने किया है, उतना किसी अन्य क्षेत्र में नहीं होता। आज के समय में लोग घर बैठे विभिन्न प्रकार के मनोरंजन कार्यक्रम, विभिन्न प्रकार के संगीत, विभिन्न प्रकार की फिल्मों और कवि सम्मेलन जैसे विभिन्न कार्यक्रमों का आनंद लेते हैं।

Also Read:-

Bhartiya Kisan Nibandh In Hindi | Bhartiya Kisan Short Essay

शिक्षा के क्षेत्र में दूरदर्शन –

वर्तमान डिजिटल युग में दूरदर्शन शिक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। वर्तमान नई शिक्षा व्यवस्था में भी दूरदर्शन का विशेष महत्व है। दूरदर्शन ने शिक्षा के क्षेत्र में नवाचार के क्षेत्र में कई नई संभावनाएं खोली हैं। दूरदर्शन छात्रों के सुनने और पढ़ने के कौशल को बहुत बढ़ाता है। आधुनिक युग में छात्रों को दूरदर्शन के माध्यम से पढ़ाया जाता है, जिससे छात्रों के सुनने और पढ़ने के कौशल का विकास होता है। दूरदर्शन शिक्षार्थी और शिक्षक दोनों को सक्रिय करता है। वर्तमान समय में शिक्षा व्यवस्था में दूरदर्शन का कोई मुकाबला नहीं कर सकता है। दूरदर्शन ने शिक्षा के क्षेत्र में अपनी जड़ें मजबूत कर ली हैं, जिसकी जगह अब कोई और नहीं ले सकता।

Also Read:-

Chandrayaan 2 Nibandh In Hindi| Chandrayaan 2 SHort Essay 

कृषि के क्षेत्र में दूरदर्शन का महत्व-

आधुनिक युग की कृषि के क्षेत्र में भी दूरदर्शन का बहुत महत्व है। आज के समय में दूरदर्शन के माध्यम से समय-समय पर कृषि संबंधी सभी प्रकार की जानकारी साझा की जाती है। जिसके माध्यम से कृषि से जुड़े लोगों को कृषि से संबंधित नई तकनीकों की जानकारी मिलती है ताकि वे अपना उत्पादन बढ़ा सकें। इसके अलावा, दूरदर्शन कृषि के क्षेत्र में महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करता है। उदाहरण के लिए, मौसम संबंधी जानकारी, कृषि में सामान्य बीमारियों की जानकारी, कृषि से संबंधित अच्छी किस्में, कृषि उपकरणों से संबंधित जानकारी उपलब्ध है।

लाभ

बता दें कि दूरदर्शन की उपयोगिता मनोरंजन एवं सामूहिक शिक्षा की दृष्टि से बहुत ही महत्त्वपूर्ण माना गया है। दूरदर्शन शिक्षा, मनोरंजन तथा सूचना प्राप्ति का बहुत बड़ा साधन भी है। इसके द्वारा न केवल किसी मनुष्य की आवाज़ अपितु उसकी शक्ल-सूरत, चाल, गतिविधियाँ आदि सबकुछ एक साथ देखा और सुना भी जा सकता है। इससे किसी घटना की सच्चाई को जांच करने में बहुत सहायता भी मिलती है। इसी कारण से न्यायालयों को भी कई बार अपना कार्य के लिए दूरदर्शन की सहायता भी लेनी पड़ती है। भारत जैसे देश में जहाँ ज्यादातर लोग लिखना-पढ़ना नहीं जानते, वहाँ टेलीविज़न निरक्षरता दूरीकरण के लिए बहुत ही सहायक साबित हो सकता है। दूरदर्शन प्रचार एवं विज्ञापनों का भी एक प्रमुख साधन है जिसके चलते व्यावसायिक दृष्टिकोण से भी यह अत्यंत महत्त्वपूर्ण हो गया है। इन सबके अलावा चाहें वह खेल-कुंद के माध्यम से हो या फिर कोई राष्ट्रिय त्यौहार, भारत जैसे विशाल देश को एक सूत्र में बांधे रखने में भी दूरदर्शन की भूमिका बहुत अधिक सराहनीय रही है।  

उपसंहार –

दूरदर्शन के सभी पहलुओं का अध्ययन करने के बाद भी दूरदर्शन की महत्वपूर्ण भूमिका को नकारा नहीं जा सकता है। संसार में सभी प्रकार की खोजों का दुरूपयोग और सदुपयोग मनुष्य पर निर्भर करता है। दूरदर्शन का सदुपयोग कर हम समाज में जागरूकता की क्रांति ला सकते हैं। दूरदर्शन से ही संभव है कि अगर दुनिया के किसी कोने में कोई घटना घटती है तो उसकी तत्काल सूचना हम तक पहुंच जाती है। इसके अलावा हर क्षेत्र में दूरदर्शन की अहम भूमिका है। दूरदर्शन के कारण भारतीय संस्कृति का महत्व आज भी बना हुआ है।