pet ki gas ka ilaj in hindi yoga gharelu upchar upay Dawa ka Naam tablet medicine ayurvedic

पेट की गैस,एसिडिटी तुरंत ठीक | घरेलु उपचार | Gas Ki Medicine – योग

WELLNESS FOREVER

Pet Ki Gas Ke  Lakshan in Hindi

अगर आप को भी इन में से कोई दिक्कत महसूस होती है तो समझ लो आप भी पेट की गैस से पीड़ित हैं. क्योंकि ये सभी पेट की गैस के लक्षण हैं. ध्यान से देखें ये इस प्रकार हैं –

  • पेट फूलना- कुछ खाने के बाद ज्यादा तथा सामान्यतः थोडा कम. हो सकता है आपको आम, ब्रेड, खीर, चावल, नमकीन वगेरा खाने के बाद ज्यादा दिक्कत महसूस हो.
  • जी मिचलाना और उल्टियाँ आना तथा गला सूखना.
  • पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द का होना.
  • पेट में भारीपन और कब्ज का बनना.
  • भोजन में अरुचि होना.
  • सीने में जलन पैदा होना.
  • खट्टी डकारों का आना.
  • बेचैनी होना और सांस लेने में तकलीफ होना.

Pet Ki Gas ka Ilaj in Hindi- (पेट की गैस का इलाज )

दोस्तों pait mein gas होना आजकल बहुत ही आम हो गया है क्योंकि फसलों में इतने कीटनाशक लगाये जाते हैं की चीज़ें कई बार फायदा करने की जगह नुकसान ज्यादा करती हैं. आपको आश्चर्य होगा कि pait ki gas ka ilaj घर पर ही मौजूद है.  इस पोस्ट में हम आपको पेट की गैस को जड़ से खत्म करने के उपाय बतायेंगे.

Also Read:-

Pet Saaf Karne Ke Gharelu Upay (पेट साफ़ करने के घरेलू उपाय)

तो आइये pet gas ka gharelu upchar देखते हैं-

पेट की गैस का दुश्मन है जीरा–

इस बात को तो वैध भी मानते हैं कि पेट में गैस की समस्या से निदान पाने के लिए जीरा सबसे अधिक प्रभावशाली होता है. यह हमारे पाचन क्रिया के लिए काफी असरदार साबित होता है. ऐसे में आप एक गिलास गर्म पानी में एक चम्मच जीरा डालकर 5 – 10 मिनट तक उबालें.पानी ठंडा होने पर भोजन करने के बाद इसे पियें .

सौंफ का करें इस्तेमाल–पेट की गैस होगी दूर

माना जाता है कि सौंफ पेट की गैस की समस्या में रामबाण साबित होता है. सौंफ को दरदरा पीसकर एक गिलास पानी में दो चम्मच सौंफ मिलाकर 5 – 10 मिनट के लिए उबालें. उबालने के बाद इस पानी को छानकर चाय की तरह रोजाना दिन भर में 2 बार इसका सेवन अवश्य करें.

Also Read:-

Hanuman aarti in Hindi (aarti kije hanuman Lala ki)- Benefits & Lyrics

पानी दिलाये गैस में रहत

डॉक्टरों का मानना है कि गैस एवं एसिडिटी की समस्या हो तो पानी रामबाण साबित होता है. आप दिन भर में कम से कम 10 से -15 गिलास पानी का सेवन करें. पानी आपकी गैस की समस्या को जड़ से खत्म कर देगा.

हींग का करें सेवन

यह भी कहा गया है कि हींग में एंटीस्पास्मोडिक और ऐंटिफ्लाटुलेंट गुण मौजूद होते हैं. ऐसे में अगर आप गैस की समस्या से तुरंत निजात पाना चाहते हैं तो हींग आपके लिए काफी असरदार साबित होगी . आप गुनगुने पानी में हींग मिलाकर पीते हैं तो आपको गैस कभी नही होगी. इसके पश्चात ही आपको गैस में तुरंत आराम भी मिल जायेगा.

अदरक पेट की गैस के लिए लाभकारी होता है

अदरक भी गैस में बहुत लाभकारी साबित होता है. आप अदरक के टुकड़े को पानी में उबाल लें फिर जब ये हल्का गर्म रह जाये तो इस पानी का सेवन करें. आप चाहे तो अदरक के टुकड़े पर काला नमक लगाकर इसे मुंह में डालकर चूस भी सकते हैं. अदरक के रस में शहद मिलाकर दिन भर में 2 से 3 बार चबा चबा कर खाने से भी पेट गैस से तुरंत आराम मिलता है.

हल्दी का करें सेवन

डॉक्टरों का मत है कि हल्दी भी गैस की समस्या में आराम पहुंचाने का काम करती है. गैस बनने पर आप गर्म पानी के साथ दो चुटकी हल्दी और दो चुटकी नमक मिलाकर सेवन करें.

Also Read:-

Ram Mantra for Success- प्रभु राम के सटीक मंत्र | Siddhi | Benefits

छाछ का भी करें प्रयोग

आयुर्वेद में छाछ को गैस के लिए रामबाण बताया गया है. छाछ में प्रोबायोटिक माइक्रोब्स मौजूद होते हैं जो कि पाचन क्रिया में बहुत ही ज्यादा असरदार व लाभकारी होते हैं. अगर आप रोजाना छाछ में एक चम्मच अजवाइन और काला नमक मिलाकर दिन भर में 2-3 बार सेवन करते हैं तो आपको गैस की समस्या से आराम मिल जाएगा.

गैस की समस्या में मुनक्का और अंजीर करें प्रयोग

डॉक्टरों का मानना है कि मुनक्का और अंजीर भी पेट की गैस की समस्या में बहुत ही लाभदायक साबित होता है. आप रोजाना 5- 5  मुनक्का और दो अंजीर का सेवन अवश्य करें तो आपको पेट में गैस के कारन होने वाले दर्द में काफी हद तक आराम मिल जाएगा.

सेब का सिरका पेट की गैस करे ख़त्म

गैस के इलाज के लिए सेब का सिरका भी काफी असरदार साबित होता है. डॉक्टरों का मानना है कि इसमें एंजाइम मौजूद होते हैं जो पाचन में बहुत ही सहायक होते हैं. ऐसे में आप एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच सेब का सिरका मिलाकर सेवन करते हैं तो आपको गैस की समस्या से निजात मिलेगी.

नींबू का पानी दिलाये गैस से राहत

यह भी कहा गया है कि अगर आप एक गिलास गुनगुने पानी में आधा नींबू निचोड़ कर प्रतिदिन दिन भर में दो से तीन बार सेवन करते हैं तो आपको गैस की समस्या से छुटकारा मिल जाएगा. साथ ही इस से आपकी इम्युनिटी अर्थात रोग प्रतिरोधक क्षमता भी स्ट्रांग बनी रहती है क्योंकि नीम्बू में विटामिन सी भरपूर मात्रा में होता है. 

Also Read:-

Ma Durga- माता को प्रसन्न करने के मन्त्र | लक्ष्मी | सौभाग्य | मोक्ष

Gas se Bachne ke Upay

यहाँ हम कुछ ऐसे उपाय बाटेंगे जिन से गैस बननी ही कम हो जाये. गैस एवं एसिडिटी के रोगियों को कुछ बातें ध्यान रखना अति आवश्यक हैं जैसे-

  • रोजाना सुबह खाली पेट एवं खाने के बाद टहलना बहुत ही आवश्यक है.
  • तले भुने भोजन का कम से कम सेवन करना चाहिए.
  • खाने के बाद कम से कम 1 कप तेज़ गरम पानी सिप सिप करके पीना चाहिए.
  • खाली पेट गरम पानी पीना भी अत्यंत लाभकारी होता है.
  • यदि कभी अचानक से एसिडिटी महसूस हो तो ठंडा दूध पी लेना चाहिए तुरंत रहत मिलेगी.

Gas ki Dawa ka Naam

दोस्तों अगर आप भी पेट में गैस की समस्या से परेशान हैं तो नीचे दी हुई pet me gas ki tablet आपको ज़ुरूर फायदा करेंगी लेकिन हम फिर भी एक बार कहना चाहेंगे की आप कोई भी pet gas ki medicine लेने से पहले किसी डॉक्टर से संपर्क कर लें तो बहुत ही अच्छा होगा.

एसिडिटी की दवा के नाम इस प्रकार हैं

खली पेट गैस की दवा– आप खाली पेट Pansec- L खा सकते हैं ये बहुत ही असरकारी कैप्सूल  है जिसके कोई साइड इफेक्ट्स भी नहीं हैं या फिर ना के बराबर हैं.

गैस की समस्या के लिए आप खाली पेट Zyra L भी खा सकते हैं ये भी बहुत ही असरकारी कैप्सूल  है और इसके भी कोई साइड इफेक्ट्स भी नहीं हैं या फिर ना के बराबर हैं.

Also Read:-

Nariyal Pani Ke Fayde In Hindi (नारियल पानी के फायदे)

इसके अलावा आप नीचे लिखी हुई टेबलेट्स खाना खाने के बाद भी खा सकते हैं

  • रैनिटैस 150mg टैबलेट
  • रैफिलोन 150mg टैबलेट
  • ज़ायनोल 150mg टैबलेट
  • हिस्टैक 150 टैबलेट
  • रैनिटिन 150 टैबलेट

Pet Gas ki Ayurvedic Dawa  एसिडिटी की दवा

  • Liv 52
  • उदरामृत वटी (पतंजलि )

Best Medicine for Gas and Acidity – pet ki gas ki dawa

Liv 52 (Himalya Company) (H3)

लिव 52 आयुर्वेदिक दवाई है जिसके आम तौर पर कोई साइड इफेक्ट्स देखने को नहीं मिलते. ये सबसे अधिक popular पेट के गैस की दवाई है.

Pet ki Gas ke Liye Yoga

विद्वानों का मत है कि पवनमुक्तासन संस्कृत के दो शब्दों पवन और मुक्त से मिलकर बना है. इसमें पवन का अर्थ ‘हवा’और मुक्त का अर्थ ‘छोड़ना’है. पवनमुक्तासन एक रिलैक्सिंग मुद्रा है जो सभी के लिए उपयुक्त है, चाहे आप बिगनर्स हों या एडवांस प्रैक्टिशनर हों.

कहा जाता है कि पवनमुक्तासन पेट के भारीपन को कम करने, रक्त संचार को बढ़ाने, नर्वस सिस्टम को स्टिमुलेट करने और पेट से गैस को बाहर निकालने में मदद करता है और इसके साथ-साथ यह हानिकारक टॉक्सिन्स को भी शरीर से निकालता है. तो जिन लोगों को ज्यादा गैस की समस्या हो वो नियमित तौर पर पवनमुक्तासन करें. गैस की समस्या से निजात मिलेगी.