haath aor pairo ka fdhkna जानें हाथ के हथेली और उंगलियाँ फड़कना | matalab | संकेत | शुभ या अशुभ

जानें हाथ के हथेली और उंगलियाँ फड़कना | matalab | संकेत | शुभ या अशुभ

WELLNESS FOREVER

Hath Fadakna in Hindi

ईश्वर मनुष्य के भविष्य में होने वाली घटनाओं  के सन्देश पहले ही भेज देता है यह बात और है कि मनुष्य इन संदेशों को पढ़ या समझ नहीं पाता है जैसे सपनों का आना, अंगों का फड़कना आदि.  इनमे मनुष्य का हाथ फड़कना मुख्य है. हाथ फडकने के भी अर्थ होते हैं तो आइये जानते हैं हाथ फड़कने (Hath Fadakna in Hindi) के क्या मीनिंग होते हैं. रामायण में माता कौशल्या ने भगवान् राम के वन से लौटने का सन्देश अंग के माध्यम से ज्ञात किया था .

हाथ फड़कना भविष्य में होने वाली घटनाओं का संकेत है. यह भाविष्य बताने वाली प्रमुख सांकेतिक भाषा है . ऐसा माना जाता है कि ईश्वर सबके अन्दर निवास करता है जब वह सबके अन्दर रहता है तो वह भविष्य में होने वाली घटनों का संकेत व्यक्ति को अवश्य देता है लेकिन यह ज्यादातर छुपे संकेतों में देता है. चाहे वह हाथ फड़कना हो, आँख फड़कना हो या फिर कन्धा फडकना हो.

मनुष्य बिना जानकारी के अंगों के फड़कना  का अर्थ नहीं जान सकता है और जो विज्ञान इसके बारे में जानकारी देता है उसे अंग शास्त्र या समुद्र शास्त्र कहते हैं. हाथ फड़कने का अर्थ शुभ होता है. हिन्दू धर्म ग्रंथों के मुताबिक पुरुषों का दांया हाथ फड़कना अच्छा होता है और स्त्रियों का बांया हाथ फड़कना अच्छा होता है . हाथ फड़कना शुभ और अशुभ दोनों होता है यह निर्भर करता है कि किसका कौन सा हाथ फड़क रहा है .

Also Read – पेट की गैस,एसिडिटी तुरंत ठीक | घरेलु उपचार | Gas Ki Medicine – योग

Ulta Hath Fadakna- Left Hath ka Fadakna- Baya Hath ka Fadakna

बांया हाथ फड़कना (Ulta Hath Fadakna) का मतलब है कि व्यक्ति को आने वाले दिनों में उसकी  खोई हुई वस्तु मिलने के पूरे योग होते हैं .

Hath Ki Hatheli Fadakna-

कई बार हाथ नहीं फडकता है बल्कि हाथ के अंग मतलब हथेली और उंगलियाँ भी फडकती हैं और सबके अलग अलग अर्थ होते हैं . अगर व्यक्ति के बाएं हाथ (Left Hath Ki Hatheli Fadakna) की हथेली फड़कती है तो व्यक्ति के स्वास्थ्य अच्छा रहता है अगर बीमार व्यक्ति की हथेली फडकती है तो भविष्य में उसके जल्दी स्वस्थ होने के संकेत हैं. अगर व्यक्ति के दाएं हाथ की हथेली फड़कती है तो इसका मतलब है कि  व्यक्ति को कीर्ति व यश मिल सकता है .

Dahina Hath Fadakna- Sidha Hath Fadakna- Daya Hath Fadakna ka Matlab

दाएं हाथ का फड़कना (Dahina Hath Fadakna) – समुद्रशास्त्र  के अनुसार मनुष्य का  दाहिना हाथ या राईट हैण्ड या दायां हाथ फड़कना मतलब है कि यह कहीं से आर्थिक लाभ  व मान सम्मान मिलने के संकेत हैं इससे आपकी प्रसन्नता बढ़ने वाली है .

Also Read – Tulsi Mata Ki Kahani | Aarti |Laabh In Hindi |PDF

hath pair fadakna- hath ki ungli fadakna

हाथ की उंगलियों का फड़कना (– hath ki ungli fadakna) मतलब भविष्य में किसी ख़ास मित्र से मिलने के योग बनाती है .

Hath Ki Ungli Fadakna

व्यक्ति के हाथ की अंगुलियां फड़कना (Hath Ki Ungli Fadakna) संकेत करती हैं कि आने वाले समय में जल्दी ही व्यक्ति का अपने प्रिय और ख़ास दोस्त से मिलने की पूरी सम्भावना है .

hath ka angutha fadakna-

परेशानियोंकीओरइशाराकरताहैअंगूठाफडकना , हाथ का अंगूठा फडकना अच्छा संकेत नही है अंगूठा फडकना इशारा करता है की भविष्य में व्यक्ति को परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है अत व्यक्ति को बेहद सतर्क रहना चाहिए और व्यक्ति को कोई निर्णय लेना ही पड़े तो उसे अनुभवी और विशेषज्ञों की सलाह लेनी चाहिए जिससे संकट को कम किया जा सके और आर्थिक नुकसान से बचा जा सके . ऐसे समय में तनाव कम लेना चाहिए . हाथ का अंगूठा फडकना बताता है कि व्यक्ति को कोई बुरी खबर मिल सकती है या फिर कोई बड़ी  समस्या से मुकाबला करना पड़ सकता है .

Also Read – Jodo KE Dard Ka Ilaj In Hindi

हाथ पैर फडकना

संकट की ओर इशारा करते हैं हाथ पैर फडकना (hath pair fadakna) दाहिने पैर का तलवा फड़कना शुभ संकेत नहीं है यह  बताता है कि व्यक्ति को आने वाले समय में अपनी सामाजिक प्रतिष्ठा में नुकसान होगा .

बाएं पैर का तलवा फडकना बताता है कि व्यक्ति को भविष्य में यात्रा के करनी पड़ सकती है .

Also Read – ब्रहस्पति देव की आरती| (Brihaspati Dev) | Lyrics In Hindi |PDF

hath ka baju fadakna

व्यक्ति की बाजू फडकना (hath ka baju fadakna) है शुभ होता है पुरुषों को दांये बाजू  का जो फल मिलता है स्त्री को वही फल बांये बाजु फडकने से मिलता है और पुरुष को जो फल बांये बाजू के फडकने पर मिलता है स्त्री को वही फल दांये बाजू के फड़कने पर मिलता है. अगर किसी व्यक्ति की बांयी बाजू फड़कना बताता है कि व्यक्ति को आर्थिक लाभ व् सम्मान मिलने की संभावना है

व्यक्ति की  दायां बाजू फडकना बताता है कि व्यक्ति तो कोई खोई हुई चीज वापस मिल सकती है. रामायण में उल्लिखित है कि माता कौशल्या ने बांयी बाजू फडकने पर ज्ञात कर लिया था कि भगवान राम का वन से लौटने का समय हो चुका है .

Also Read – Hanuman Aarti In Hindi (Aarti Kije Hanuman Lala Ki)- Benefits & Lyrics

हाथ की नस फड़कना

हाथ की मांसपेशियों में सोडियम और पोटेशियम का कांट्रेशन का असुन्तलित हो जाता है जिससे मांसपेशी में तनाव उत्पन्न हो जाता है. जिससे मांसपेशियों में इलेक्ट्रिक करंट पैदा होता है इसी वजह से नस फड़कती हैं .