DHARM SANSAR

इस पेज में हम आपकी धार्मिक आवश्यकताओं को पूर्ण करने का प्रयास करेंगे | हम अक्सर इस पेज पर कुछ नया डालते रहते हैं लेकिन अभी हम अपने अथक प्रयासों के बाद कुछ स्तोत्र, चलिसायें, कथाएँ, आरतियाँ तथा कुछ नामों के आधार पर व्यक्ति के जीवन पर प्रभाव के विषय में ही डालने में सफल हो पाए हैं | आइये सक्षिप्त में नज़र डालते हैं स्तोत्रों पर सबसे पहले उदहारण लेते हैं माँ लक्ष्मी के कनकधारा स्तोत्र पर –

आज के युग में हर व्यक्ति अतिशीघ्र समृद्ध बनना चाहता हैं. धन प्राप्ति हेतु प्राण-प्रतिष्ठित कनकधारा यंत्र के सामने बैठकर कनकधारा स्तोत्र (sri kanakadhara mahalakshmi )का पाठ करने से विशेष लाभ प्राप्त होता हैं. इस कनकधारा स्तोत्र आराधना करने से ऋण और दरिद्रता से शीघ्र मुक्ति मिलती हैं। व्यापार में उन्नति होती हैं, बेरोजगार को रोजगार प्राप्ति होती हैं. (sri kanakadhara mahalakshmiकनकधारा स्तोत्र कि रचना कुछ इस प्रकार कि हैं, जिसके श्रवण एवं पठन करने से आस-पास के वायुमंडल में विशेष अलौकिक दिव्य उर्जा उत्पन्न होती हैं। इस पेज में हम kanakadhara stotram lyrics के साथ साथ lakshmi ashtothram, lakshmi stotra , kanakadhara stotram pdf download , कनकधरा स्तोत्र कैसे पढ़े और lakshmi stuti भी प्रस्तुत कर रहे है |

Kanakdhara Stotra in Hindi (Kanakdhara Stotram Lyrics,हिंदी अनुवाद)

इसी के साथ साथ हम यहाँ पर आपके लिए  कुछ चलिसायें भी प्रस्तुत कर रहे हैं उदहारण लेते हैं श्री विष्णु चालीसा का-

vishnu chalisa benefits – विष्णु चालीसा से लाभ- भगवान् विष्णु के चालीसा पाठ से मनुष्य के समस्त जन्मो के पाप नष्ट हो जातें हैं. विष्णु भगवान् सदा अपने भक्तों पर कृपा करतें हैं. भगवान् विष्णु की कृपा से मनुष्य को अपने जीवन में सफलता मिलती है. विष्णु चालीसा के पाठ से मनुष्य को भगवान् विष्णु की कृपा प्राप्ति होती है. विष्णुजी की कृपा से मनुष्य को शुख-शान्ति की प्राप्ति होती है. भगवान् विष्णु की कृपा से मनुष्य को धन-सम्पति की प्राप्ति होती है. विष्णु भगवान् की कृपा से मनुष्य को कभी रोग दोष नहीं होता है. भगवान् विष्णु की कृपा से मनुष्य इस जनम-मरण के चक्र से मुक्ति प्राप्त करके मोक्ष को प्राप्त करता है. 8. अगर मनुष्य सम्पूर्ण भक्ति के साथ भगवान् विष्णु की आराधना करता है तो उस पर भगवान् विष्णु की विशेष कृपा रहती है|

Shri Vishnu Chalisa in Hindi – Benefits & Lyrics

यहाँ आपके जीवन को और अधिक धार्मिक रंग देने के लिए कुछ कथा संग्रह भी प्रस्तुत कर रहे हैं| उदहारण लेते हैं सोलह सोमवार व्रत कथा का-

सोलह सोमवार व्रत के नियम- सोलह सोमवार व्रत(solah somvar vrat) को मनोवांछित फल प्राप्ति के लिए बहुत खास माना जाता है। मनचाहा जीवनसाथी पाने के लिए भी यह व्रत बहुत फायदेमंद होता है। सोलह सोमवार व्रत के नियम- जो भी स्त्री-पुरुष सोलह सोमवार के व्रत रखते है उन्हें व्रत के दौरान ब्रह्मचर्य के नियमों का पालन करना होता है। व्रत के दिन सूर्योदय से पूर्व जागकर नहाने वाले पानी में चुटकी भर काले तिल डालकर स्नान करना चाहिए। स्नान के पश्चात् सूर्य को हल्दी से मिला हुआ जल चढ़ाना चाहिए। व्रत वाले दिन भगवान शिव की आराधना करें। पूजन के लिए तांबे में पात्र से शिवलिंग पर जल चढ़ाएं। शिव जी का अभिषेक करने के लिए गंगा जल या शुद्ध जल में गंगाजल मिलाकर करें। शिवलिंग पर अभिषेक करने के बाद “ॐ नमः शिवाय” मंत्र का जाप करते हुए सफेद फूल, सफेद चंदन, चावल, पंचामृत, सुपारी, फल और गंगा जल से शिव-पार्वती का पूजन करें। पूजन करते समय, भगवान शिव के प्रिय मंत्रों का जाप करना जरुरी होता है। इसके लिए महामृत्युंजय मंत्र, शिव पंचाक्षरी मंत्र और शिव जी के अन्य मंत्रो का उच्चारण करें। भगवान शिव और माता पार्वती के पूजन के बाद सोमवार व्रत कथा का पाठ जरूर करें। पूजन के बाद आरती जरूर करें और भोग लगाएं। प्रसाद को परिवार में बांट दें और उसके बाद स्वयं भी ग्रहण करें।संभव हो तो उपवास वाले दिन बिना नमक का भोजन करें। सोलह सोमवार व्रत(solah somvar vrat) के दौरान, प्रत्येक सोमवार पूजन करने का एक ही समय निर्धारित करें। 16 सोमवार व्रत के दौरान पुरे दिन में एक ही समय भोजन करें। बार-बार मुंह झूठा नहीं करें। भगवान को भोग लगाने के लिए गंगाजल, तुलसी, लौंग, चूरमा, खीर, लड्डू आदि में से कुछ भी अपनी क्षमतानुसार प्रसाद चढ़ाएं। और खुद भी खाएं। सोलह सोमवार के व्रत पूर्ण होने तक किसी विवाहित जोड़े को कुछ ना कुछ उपहार जरूर दें। सोलह सोमवार तक एक जोड़े को उपहार दें। उपहार में वस्त्र, फल, मिठाई कुछ भी दे सकते हैं।

Solah Somvar Vrat Katha in Hindi (सोलह सोमवार व्रत नियम, व्रत विधि)- Benefits & Lyrics

इतना ही नहीं इसी पेज के माध्यम से आप जान सकते हैं किक्या कहता है आपके नाम का पहला अक्षर|

A नाम वाले लोग – LOVE, SUCCESS, HEALTH, CAREER, NATURE